राजस्थान के प्रमुख संत एवं सम्प्रदाय भाग – 1

यह पोस्ट राजस्थान का इतिहास से संबंधित है जिसमें आप राजस्थान के प्रमुख संत एवं सम्प्रदाय भाग – 1 के बारे में नोट्स पढ़ सकते हैं यह टॉपिक बहुत बड़ा है इसलिए हम आपको इसके नोट्स अलग-अलग पार्ट में उपलब्ध कराएं जिन्हें आप आगामी परीक्षा के लिए तैयार कर सकते हैं

राजस्थान के इतिहास के ऐसे नोट हम आपको बिल्कुल फ्री में उपलब्ध करवा रहे हैं जो आपको कहीं भी नहीं मिलेगी अगर आपइन नोटिस को पढ़ लेते हैं तो आपका यह टॉपिक अच्छे से जरूर क्लियर हो जाएगा

राजस्थान के प्रमुख संत एवं सम्प्रदाय भाग – 1

– राजस्थान का जनजीवन अनेक धार्मिक मान्यताओं और आस्थाओं में गूँथा हुआ है। राजस्थान की भौगोलिक परिस्थतियोंमध्यकालीन राजनीतिक संक्रमणइस्लाम के प्रवेश एवं तुर्क आक्रमणोंउत्तर भारत के भक्ति आन्दोलन आदि ने राजस्थान के जनमानस को भी उद्वेलित किया।

– हिन्दू धर्म, राजस्थान प्रदेश का मुख्य धर्म है। हिन्दू धर्म के अंतर्गत ‘विष्णु पूजक’ अर्थात वैष्णव धर्म में आस्था रखने वाले लोगों की संख्या सर्वाधिक है। वैष्णवों के अतिरिक्त शैव एवं शाक्त मतावलम्बी भी प्रदेश में न्यूनाधिक संख्या में निवास करते हैं। वैष्णव, शैव एवं शाक्त तीनों ही मत अनेक पंथों एवं सम्प्रदायों में बँटे हुए हैं।

– वैष्णव एवं शैव उपासकों को उपासना पद्धति के आधार पर दो भागों में विभक्त किया जा सकता है-

 (1) सगुण संप्रदाय – इसमें ईश्वर को सर्वस्व मानकर ईश्वर के मूर्त रूप की पूजा – आराधना की जाती है। 

 (2) निर्गुण संप्रदाय – इस मत के समर्थक ईश्वर को निराकार एवं निर्गुण परमसत्ता मानकर उसकी भक्ति करते हैं।

सगुण सम्प्रदायनिर्गुण सम्प्रदाय
रामानुज सम्प्रदायविश्नोई सम्प्रदाय
वल्लभ सम्प्रदायजसनाथी सम्प्रदाय
निम्बार्क सम्प्रदायदादू सम्प्रदाय
नाथ सम्प्रदायरामस्नेही सम्प्रदाय
गौड़ीय सम्प्रदायपरनामी सम्प्रदाय
पाशुपत सम्प्रदायनिरंजनी सम्प्रदाय
निष्कलंक सम्प्रदायकबीरपंथी सम्प्रदाय
चरणदासी सम्प्रदायलालदासी सम्प्रदाय
मीरादासी सम्प्रदाय

वैष्णव धर्म एवं उसके सम्प्रदाय

भगवान विष्णु  उनके दस अवतारों को प्रधान देव मानकर उसकी आराधना करने वाले वैष्णव कहलाए।

वैष्णव धर्म के विषय में प्रारम्भिक जानकारी उपनिषदों से मिलती है।

वैष्णव धर्म को ‘भागवत धर्म’ भी कहा जाता है।

प्रवर्तक – वासुदेव श्रीकृष्ण

विष्णु के चौदह अवतार हैं। मत्स्य पुराण में इसके दस अवतारों का वर्णन है।

राजस्थान में वैष्णव धर्म का सर्वप्रथम उल्लेख द्वितीय शताब्दी ईसा पूर्व के घोसुण्डी अभिलेख में मिलता है।

वैष्णव धर्म के सम्प्रदाय


1रामानुज सम्प्रदाय  

2. रामानन्दी सम्प्रदाय
3. निम्बार्क सम्प्रदाय  

4. वल्लभ सम्प्रदाय
5. ब्रह्म या गौड़ीय सम्प्रदाय

अगर आप हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

Join TelegramClick Here
Join WhatsappClick Here

अंतिम शब्द 

हम आपको ऐसे ही नोटिस टॉपिक अनुसार निशुल्क Rpsc Notes की इस वेबसाइट पर हिंदी भाषा में उपलब्ध करवाएंगे यकीन मानिए अगर आप अपनी तैयारी कहां से करते हैं तो आपको अपने किसी बुक की आवश्यकता नहीं होगी

Leave a Comment

error: Content is protected !!