राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार – नोट्स

अगर आप राजस्थान से संबंधित किसी भी परीक्षा ( RAS, REET , 2nd Grade , LDC , Rajasthan Police , High Court ) की तैयारी करते हैं तो Rajasthan Geography में उपलब्ध कराए जाने वाले नोट्स आपके लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है इस पोस्ट में हम आपको राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के शॉर्ट नोट्स नि शुल्क लेकर आए हैं ताकि यह टॉपिक आपको अच्छे से क्लियर हो सके

राजस्थान का भूगोल ( Rajasthan Geography Notes ) के ऐसे नोट्स आपको ढूंढने पर भी नहीं मिलेगी अगर आप हमारे द्वारा उपलब्ध करवाए जाने वाले नोट्स के माध्यम से तैयारी करते हैं तो निश्चित ही आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे

राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार

– राजस्थान की अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पाकिस्तान के साथ लगती है। इस सीमा का नाम ‘रेडक्लिफ रेखा’ है।

– इस अन्तर्राष्ट्रीय रेखा का नामकरण ब्रिटिश ‘वकील सिरिल रेडक्लिफ’ के नाम पर किया गया था।

– रेडक्लिफ रेखा एक कृत्रिम रेखा है।

– रेडक्लिफ रेखा भारत और पाकिस्तान के बीच खींची गई है।

– रेडक्लिफ लाइन का निर्धारण 13-17 अगस्त, 1947 को हुआ।

– रेडक्लिफ रेखा पर भारत के 3 राज्य और 2 केन्द्र शासित प्रदेश स्थित हैं-

तीन राज्य–दो केन्द्र शासित प्रदेश–
1. पंजाब1. जम्मू-कश्मीर
2. राजस्थान2. लद्दाख
3. गुजरात 

– रेडक्लिफ लाइन की कुल लम्बाई 3,323 किलोमीटर है, जिसमें से राजस्थान के साथ 1,070 किलोमीटर की सीमा लगती है यानी कि कुल रेडक्लिफ का एक-तिहाई भाग राजस्थान के साथ संलग्न है।

– रेडक्लिफ रेखा पर क्षेत्रफल की दृष्टि से राज्य का बड़ा जिला जैसलमेर है और सबसे छोटा जिला श्रीगंगानगर है।

– अन्तर्राष्ट्रीय रेखा की शुरुआत श्रीगंगानगर जिले के हिन्दूमल कोट से शुरू होकर बाड़मेर जिले के भागल गाँव (बाखासर) तक है।

राजस्थान के 4 जिले अन्तर्राष्ट्रीय रेखा पर स्थित हैं जो कि निम्नलिखित हैं-

1.श्रीगंगानगर210 किलो मीटर
2.बीकानेर168 किलो मीटर (न्यूनतम)
3.जैसलमेर464 किलो मीटर (सर्वाधिक)
4.बाड़मेर228 किलो मीटर

– अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर स्थित जिलों में से सबसे नजदीक जिला-मुख्यालय श्रीगंगानगर है तथा सबसे दूर बीकानेर है।

– गैर अन्तर्राष्ट्रीय सीमावर्ती जिलों में पाकिस्तान की सीमा के सबसे नजदीक जिला मुख्यालय हनुमानगढ़ व दूर जिला मुख्यालय धौलपुर है।

– रेडक्लिफ पर पाकिस्तान के 9 जिले स्थित हैं- पंजाब प्रान्त के 3 जिले बहावलनगर, बहावलपुर, रहीमयार खाँ जिले तथा सिंध प्रांत के 6 जिले घोटकी, सुक्कुर, खैरपुर, संघर, उमरकोट व थारपारकर राजस्थान के साथ अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाते हैं।

– राजस्थान के साथ सर्वाधिक अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पाकिस्तान का बहावलनगर जिला व न्यूनतम अन्तर्राष्ट्रीय सीमा उमरकोट बनाता है।

– राजस्थान राज्य की स्थलीय सीमा पाँच राज्यों के साथ लगती है।          

राज्यराजस्थान के संदर्भ में स्थिति
पंजाबउत्तर
हरियाणाउत्तर-पूर्व
उत्तर प्रदेशपूर्व
मध्य प्रदेशदक्षिण-पूर्व
गुजरातदक्षिण-पश्चिम

– यह राजस्थान के साथ न्यूनतम सीमा 89 किलोमीटर बनाता है।

– श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ पंजाब राज्य की सीमा पर स्थित राजस्थान के दो जिले हैं।

– श्रीगंगानगर पंजाब के साथ सर्वाधिक व हनुमानगढ़ न्यूनतम सीमा बनाता है।

– पंजाब के दो जिलों की सीमा राजस्थान के साथ लगती है फाज्लिका, मुक्तसर साहिब है।

– हरियाणा राज्य राजस्थान के साथ 1,262 किलोमीटर की सीमा बनाता है।

– राजस्थान के 7 जिले हरियाणा के साथ सीमा बनाते हैं- (हनुमानगढ़, चूरू, झुंझुनूँ , सीकर, जयपुर, अलवर, भरतपुर) हरियाणा के साथ हनुमानगढ़ सर्वाधिक तथा जयपुर न्यूनतम सीमा बनाते हैं।

– हरियाणा के सात जिलों की सीमाएँ – रेवाड़ी, महेन्द्रगढ़, भिवानी, हिसार, सिरसा, फतेहाबाद, मेवात राजस्थान के साथ लगती है। 

– उत्तर प्रदेश राज्य राजस्थान के साथ 877 किलोमीटर की सीमा बनाता है।

– उत्तर प्रदेश के साथ राजस्थान के दो जिले सीमा बनाते हैं- (भरतपुर सर्वाधिक, धौलपुर न्यूनतम)।

– उत्तर प्रदेश के दो जिलों मथुरा व आगरा की सीमाएँ राजस्थान के साथ लगती हैं।

– मध्य प्रदेश राज्य राजस्थान के साथ 1,600 किलोमीटर की सीमा बनाता है।

– राजस्थान के 10 जिले मध्य प्रदेश के साथ सीमा – धौलपुर, करौली, सवाई माधोपुर, कोटा, बाराँ, झालावाड़, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, प्रतापगढ़ व बाँसवाड़ा बनाते हैं।

– मध्य प्रदेश के साथ झालावाड़ सर्वाधिक तथा भीलवाड़ा न्यूनतम सीमा बनाता है।

– मध्य प्रदेश के 10 जिले राजस्थान के साथ सीमा – झाबुआ, रतलाम, मंदसौर, नीमच, राजगढ़, गुना, शिवपुरी, अगरमालवा, मुरैना व श्योपुर बनाते हैं।

– राजस्थान के दो जिले कोटा (अविखण्डित जिला) व चित्तौड़गढ़ (विखण्डित) मध्यप्रदेश के साथ दो बार सीमा का निर्धारण करते हैं।

– गुजरात राज्य राजस्थान के साथ 1,022 किलोमीटर की सीमा बनाता है।

– गुजरात के साथ राजस्थान के छह जिले – बाँसवाड़ा, डूँगरपुर, उदयपुर, सिरोही, जालोर व बाड़मेर जिले सीमा बनाते हैं।

– गुजरात के साथ उदयपुर सर्वाधिक तथा बाड़मेर न्यूनतम सीमा बनाता है।

– राजस्थान के साथ गुजरात के छह जिलों की सीमा – बनासकांठा, साबरकांठा, अरावली, महीसागर, दाहोद व कच्छ से लगती हैं।

– राज्य के सर्वाधिक निकट स्थित बंदरगाह कांडला बंदरगाह (गुजरात) है।

– राजस्थान के 25 जिले सीमावर्ती है।

– राजस्थान के 23 जिले अन्तर्राज्यीय सीमावर्ती है।

राजस्थान के चार ऐसे जिले हैं जो दो-दो राज्यों के साथ सीमा बनाते हैं

            1. हनुमानगढ़ – पंजाब व हरियाणा।

            2. भरतपुर – हरियाणा व उत्तर प्रदेश।

            3. धौलपुर – उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश।

            4. बाँसवाड़ा – मध्य प्रदेश व गुजरात।

            राजस्थान के 2 जिले अन्तर्राज्यीय व अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर स्थित हैं

            1. श्रीगंगानगर – पाकिस्तान व पंजाब।

            2. बाड़मेर – पाकिस्तान व गुजरात।

– राजस्थान के दो जिले बीकानेर व जैसलमेर केवल अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाते हैं।

– राजस्थान के अंन्त:वर्ती जिले (आठ)– पाली, नागौर, अजमेर, जोधपुर,  टोंक, दौसा, राजसमंद, बूँदी हैं।

– पाली जिला राजस्थान में सर्वाधिक आठ जिलों व नागौर सात जिलों के साथ सीमा बनाता है।

– नागौर सर्वाधिक संभागीय (चार) मुख्यालयों से सीमा बनाता है।

– राजस्थान में चित्तौड़गढ़ के बाद अजमेर दूसरा विखण्डित जिला है।            

राजस्थान के संभाग

– वर्तमान में राजस्थान के 7 संभाग हैं।

– नवीनतम संभाग भरतपुर है। इसकी घोषणा तत्कालीन मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे सिंधिया ने 04 जून, 2005  को की।

– वर्ष 1962 को तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री मोहनलाल सुखाड़िया ने संभागीय व्यवस्था को समाप्त कर दिया तथा 15 जनवरी, 1987 को हरिदेव जोशी ने संभागीय व्यवस्था को पुन: शुरू किया और अजमेर को छठा संभाग बनाया।

– सर्वाधिक तीन राज्यों की सीमा बनाने वाला संभाग – भरतपुर। (हरियाणा, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश)

– राज्य का मध्यवर्ती संभाग – अजमेर व सर्वाधिक नदियों वाला संभाग कोटा है।

– सबसे कम नदियों वाला संभाग – बीकानेर।

राजस्थान के जिले

– वर्तमान में राजस्थान के 33 जिले हैं।

– सबसे नवीन जिला प्रतापगढ़ है। इसके निर्माण के लिए परमेशचन्द्र कमेटी का गठन किया गया था।

– प्रतापगढ़ के निर्माण के लिए तीन जिलों का विखण्डन – धारियावाद (उदयपुर), प्रतापगढ़, छोटी सादड़ी, अरनोद (चित्तौड़गढ़) व पीपल खूँट (बाँसवाड़ा) से हुआ।

– एकीकरण के समय सबसे अन्त में सम्मिलित होने वाला जिला अजमेर था, जिसे 26 वें जिले के रूप में मान्यता मिली।

– 27 वाँ जिला धौलपुर 15 अप्रैल, 1982 को बना।

– 10 अप्रैल, 1991 को तीन जिलों का गठन किया गया– बाराँ (कोटा जिले से), दौसा (जयपुर जिले से), राजसमंद (उदयपुर जिले से)।

– 31 वाँ जिला हनुमानगढ़ 12 जुलाई, 1994 को बना।

– 32 वाँ जिला करौली 19 जुलाई, 1997 को बना।

– 33 वाँ जिला प्रतापगढ़ 26 जनवरी, 2008 को बना।

क्र.स.संभागजिले के नामविशेष विवरण
1.जयपुरजयपुर, सीकर, झुंझुनूँ अलवर, दौसासर्वाधिक जनसंख्या, सर्वाधिक घनत्व,सर्वाधिक अनुसूचित जाति प्रतिशत जनसंख्या,सर्वाधिक साक्षरता – 72.99, राज्य का उत्तर-पूर्वी संभाग।
2.जोधपुरजोधपुर, पाली, जालोर, सिरोही, बाड़मेर, जैसलमेरसर्वाधिक क्षेत्रफल, सर्वाधिक दशकीय जनसंख्या वृद्धि दर, सबसे कम साक्षरता – 59.57,राज्य का पश्चिमी संभाग।
3.बीकानेरबीकानेर, चूरू, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़सर्वाधिक अनुसूचित जाति जनसंख्याराज्य का उत्तरी संभाग।
4.अजमेरअजमेर, नागौर, भीलवाड़ा, टोंकराज्य का मध्यवर्ती संभाग।यह सभी संभागों से सीमा बनाता है।
5.उदयपुरउदयपुर, डूँगरपुर, बाँसवाड़ा, राजसमंद, चित्तौड़गढ़, प्रतापगढ़सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति, सर्वाधिक लिंगानुपात, दक्षिणी संभाग।
6.कोटाकोटा, बूँदी, झालावाड, बाराँन्यूनतम जनसंख्या, सर्वाधिक नदियाँ,राज्य का दक्षिण-पूर्वी संभाग।
7.भरतपुरभरतपुर, धौलपुर, करौली, सवाई माधोपुरन्यूनतम क्षेत्रफल, राज्य कापूर्वी संभाग।

राजस्थान का परिचय – स्थिति एवं विस्तार

अगर आप हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

Join TelegramClick Here
Join WhatsappClick Here

अंतिम शब्द 

हम आपको ऐसे ही राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार – नोट्स टॉपिक अनुसार निशुल्क WWW.RPSCNOTES.IN की इस वेबसाइट पर हिंदी भाषा में उपलब्ध करवाएंगे यकीन मानिए अगर आप अपनी तैयारी कहां से करते हैं तो आपको अपने किसी बुक की आवश्यकता नहीं होगी

Leave a Comment

error: Content is protected !!