राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन ( 2 ) | Rajasthan ke kishan Andolan

Rajasthan ke kishan Andolan अगर आप  राजस्थान की किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं  तो आज की इस पोस्ट में हम आपके लिए राजस्थान सामान्य ज्ञान से संबंधित एक महत्वपूर्ण टॉपिक राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन ( 2 ) ट्रिक नोट्स लेकर आए हैं जो बहुत ही सरल भाषा एवं शॉर्ट रूप में आप तक उपलब्ध करवा रहे हैं इसमें आपको राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन, आंदोलन के कारण , बिजोलिया किसान आंदोलन Rajasthan kishan andolan gk questions and answers in hindi के बारे में संपूर्ण जानकारी मिलेगी

 राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन ( बीकानेर किसान आंदोलन ) से संबंधित अनेक बार परीक्षाओं REET, LDC, RAS, RJS, PTET, STENOGRAPHER, RAJASTHAN POLICE में प्रश्न पूछे जा चुके हैं इसलिए आगामी परीक्षाओं की बेहतर तैयारी के लिए इस टॉपिक को अच्छे से क्लियर जरूर करें 

राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन ( 2 ) | Rajasthan ke kishan Andolan

All Exam NotesClick Here
Daily Current AffairClick Here
Today Newspapers PDFClick Here

राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन ( 2 ) | बीकानेर किसान आंदोलन | शेखावाटी किसान आंदोलन

♦ मेव किसान आंदोलन :–

  • नेतृत्वकर्ता – मेव नेता चौधरी यासीन खान, मोहम्मद हादी
  • कारण – लगान के विरुद्ध , उर्दू शिक्षा को बढ़ावा देने हेतु, इस्लामी स्कूलों की संख्या में वृद्धि हेतु।

● अन्जुमन खादिम उल इस्लाम

  • स्थापना – वर्ष 1932, मोहम्मद हादी
  • मुसलमानों के हितार्थ एक साम्प्रदायिक संस्था।

– आंदोलन का समर्थन – अंजुमन-ए-खदिम, अखिल भारतीय मुस्लिम लीग व तबलीकी जमात द्वारा।

  • मेवों ने खरीफ फसल का लगान देना बंद कर दिया।
  •  राज्य सरकार ने मेवों को सन्तुष्ट करने के लिए राज्य काउसिंल में एक मुस्लिम सदस्य खान बहादुर काजी अजीजुद्दीन बिलग्रामी को सम्मिलित कर लिया।
  • मेव आंदोलन कालांतर में साम्प्रदायिक रंग प्राप्त करने लगा। मेवों ने हिन्दुओं के घरों की सम्पत्ति लूटना शुरू कर दिया था।
  •  ब्रिटिश सरकार के हस्तक्षेप से आंदोलन पर नियंत्रण पाया गया। महाराजा जयसिंह को यूरोप भेजा गया।
  • वर्ष 1937 में पेरिस में जयसिंह की मृत्यु के साथ ही आंदोलन की समाप्ति।

♦ बूँदी (बरड़) किसान आंदोलन:-

  • प्रारम्भ – अप्रैल, 1922
  •  बरड़ क्षेत्र के किसानों ने बूँदी राज्य के विरुद्ध किया।
  • बूँदी किसान आंदोलन के दो चरण –  प्रथम 1922- 1925 तथा द्वितीय चरण 1926- 1927।
  •  बरड़’ – बूँदी व बिजौलिया के बीच पथरीला व कठोर भाग।
  •  कारण –  लाग-बाग, चौथान कर (लड़कियों के क्रय- विक्रय पर लगने वाला कर) 
  • नेतृत्वकर्ता – पं. नयनूराम शर्मा व देवीलाल गुर्जर
  •  प्रमुख केंद्र – गरदड़ा, बड़घरूध, बरड़ व डाबी।
  • आन्दोलन में समाचार-पत्रों का योगदान – तरुण राजस्थान’नवीन राजस्थान’ (अजमेर), राजस्थान केसरी’ (वर्धा), प्रताप’

● डाबी हत्याकाण्ड – 2 अप्रैल, 1923 

  • गोलीबारी – पुलिस अधीक्षक इकराम हुसैन
  • शहीद – नानक जी भील व देवीलाल गुर्जर
  • पृथ्वीराज आयोग – हत्याकाण्ड की जाँच हेतु गठित
  •  10 मई, 1923 को पं. नयनूराम शर्मा को गिरफ्तार कर जेल में कैद किया गया।
  • वर्ष 1927 में राजस्थान सेवा संघ में आंतरिक विरोध के कारण इस आंदोलन की पूर्ण रूप से समाप्ति हुई।
  •  अर्जी – माणिक्यलाल वर्मा द्वारा नानक भील की स्मृति में रचित गीत।
  • महिलाओं व बच्चों पर अत्याचार के विरोध में राजस्थान सेवा संघ ने बूँदी राज्य में महिलाओं पर अत्याचार नामक शीर्षक से पर्चे बटवाएँ।

गुर्जरों द्वारा आंदोलन (1936-45) :-

  • सर्वप्रथम बरड़ क्षेत्र से आरंभ हुआ।
  • कारण – नुक्ता (मृत्यु भोज) पर प्रतिबंध, पशु गिनती, भारी राजस्व की दर व गैर-कानूनी लागें।
  •  पशुपालकों  किसानों की सभा – 5 अक्टूबर, 1936
  • स्थान – हुड़ेश्वर महादेव मंदिर (हिण्डौली)
  •  अपराध कानून संशोधन अधिनियम 1936 – 21 अक्टूबर, 1936 को बूँदी सरकार द्वारा पारित।

● आन्दोलन पुन: प्रारम्भ – 1939, लाखेरी (बूँदी)

  •  सभा – 3 सितम्बर, 1939
  • स्थान – तोरण की बावड़ी (लाखेरी)
  • नेतृत्वकर्ता –  भंवरलाल जमादार, गोवर्धन चौकीदार व राम निवास तम्बोली  
  • मार्च, 1945 तक शुल्क मुफ्त चराई की छूट किसानों की जोत के अनुपात में प्रदान की और आंदोलन शांत किया।

 बीकानेर किसान आंदोलन :-

(i) गंग नहर क्षेत्र का किसान आंदोलन –

  • कारण – पानी की मात्रा, सिंचाई कर, जमीनों की किश्ते चुकाने एवं चढ़ी रकम पर ब्याज

● जमींदार संघ –

  • स्थापना – वर्ष 1921
  • अपनी माँगों के संबंध में राज्य को प्रार्थना पत्र दिए।
  • महाराजा गंगासिंह स्वयं नहरी क्षेत्र का विकास करना चाहते थे अत: लगान व पानी की दरों में छूट दी गई।

(ii) महाजन  ठिकाने का किसान आंदोलन:- (वर्ष 1938–1942)

  • नेतृत्वकर्ता – पूर्णमल
  • कारण – कर में वृद्धि (चराई कर), अनुचित लागतों, बेगार व भू राजस्व
  •  समझौता – 1942 में जगन्नाथमल जोशी ने किसानों के साथ समझौता किया तथा ‘मूँगा कर’ कम कर दिया।
  • 1942 में आंदोलन समाप्त।

♦ दुधवाखारा (चूरू) किसान आंदोलन :-  

  • 1944  में जागीरदार ठाकुर सूरजमल सिंह ने पुराने बकाया की वसूली के नाम पर किसानों को उनकी जोत से बेदखल कर दिया।
  •  नेतृत्वकर्ता – मघाराम वैद्य, रघुवर दयाल तथा हनुमान सिंह आर्य
  • महिलाओं का नेतृत्व – खेतूबाई
  • हनुमान सिंह को रतनगढ़ में गिरफ्तार कर राजद्रोह का मुकदमा चलाया गया।

♦ ऊदासर किसान आंदोलन (बीकानेर) :- 1937

  • कारण – भू- राजस्व में वृद्धि
  • स्थानीय सामंत – भूपाल सिंह
  • नेतृत्वकर्ता – जीवनराम चौधरी
  • बीकानेर रियासत का प्रथम किसान आंदोलन।

♦ कांगड़ा काण्ड :- 1946

  • वर्तमान में चूरू  जिले में स्थित है।
  • नेतृत्वकर्ता – मघाराम वैद्य
  •  कारण – खरीफ फसल नष्ट होने पर कर में रियायत की माँग करने पर 35 किसान बीकानेर शासक शार्दुलसिंह से मिलने हेतु बीकानेर रवाना हुए लेकिन इन्हें बंधक बनाकर सामंत द्वारा मारपीट की गई।
  •  बीकानेर रियासत का अंतिम किसान आंदोलन।

● तिरंगा जुलूस – 1 जुलाई, 1946, रायसिंह नगर

  • बीकानेर राज्य प्रजा परिषद् द्वारा पुलिस दमन के विरोध में
  • जुलूस को रोकने के लिए पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी में बीरबल सिंह वीरगति को प्राप्त हुए।

– बीरबल दिवस – 17 जुलाई, 1946 को मनाया

♦ मारवाड़ किसान आंदोलन :–

  • मारवाड़ रियासत की खालसा 13% व जागीरी 87% क्षेत्र था।
  • कारण – तिहरा शोषण, बीघोड़ी कर, मादा पशुओं का निष्कासन, माप-तौल व 126 प्रकार की लाग-बाग।

● मंडोर किसान आंदोलन – 1930-1931

  • कारण – बीघोड़ी कर के विरुद्ध
  • माली जाति के किसानों द्वारा
  • 16 जून, 1934 को बीघोड़ी में प्रति एक रुपये पर तीन आने की कमी कर दी गई, जिससे खालसा क्षेत्र में आंदोलन समाप्त हो गया।

● चन्डावल घटना – 28 -29 मार्च, 1942

  • 6 किसान शहीद हुए
  • चन्डावल घटना हरिजन समाचार-पत्र में प्रकाशित हुई।
  • महात्मा गाँधी ने जाँच हेतु प्रकाश आयोग गठित किया। 

● मादा पशुओं का निर्यात – मारवाड़ राज्य द्वारा 29 अक्टूबर, 1923 को प्रतिबंध हटाने से बड़ी संख्या में पशु बाहर जाने लगे। किसानों ने इसका विरोध किया।

  • नेतृत्व – हितकारिणी सभा व जयनारायण व्यास
  •  1 सितम्बर, 1924 को पशुओं एवं घास-फूस के निर्यात पर प्रतिबंध।

● डाबड़ा काण्ड, डीडवाना 

– नागौर में मारवाड़ किसान सभा व मारवाड़ लोक परिषद् द्वारा संयुक्त बैठक।

किसान सम्मेलन – 13 मार्च, 1947

  • मारवाड़ लोक परिषद् द्वारा डाबड़ा में आयोजित सम्मेलन में ठिकाने द्वारा गोलीबारी में 12 व्यक्ति मारे गए। मथुरादास माथुर घायल हुए।
  • डाबड़ा काण्ड के शहीद – चुन्नीलाल शर्मा  रूघाराम चौधरी (किसान आंदोलन के अंतिम शहीद)
  • डाबड़ा काण्ड की वंदेमातरम्लोकवाणी, प्रजा सेवक आदि समाचार पत्रों द्वारा कड़ी आलोचना।
  • वर्ष 1948 में भारत सरकार के राज्य सचिव वी. पी. मेनन ने जोधपुर आकर किसानों व स्थानीय प्रशासन के मध्य समझौता करवाया।

♦ शेखावाटी किसान आंदोलन :–

  • वर्ष – 1922-1935

● कारण –

  1. जरीब में बदलाव – 165 फुट के स्थान पर 82.5 फुट जरीब करना।
  2. रजाका कर – प्रति बीघा 2 आना अतिरिक्त कर लगाना।
  3. भूराजस्व में वृद्धि – सीकर के नए ठिकानेदार कल्याणसिंह द्वारा 25 से 50 प्रतिशत तक भू-राजस्व में वृद्धि करने के कारण।
  • नेतृत्व – हरलालसिंह, रामनारायण चौधरी, हरिनारायण ब्रह्मचारी, ताड़केश्वर शर्मा व ठाकुर देशराज (भरतपुर)।
  • लंदन में प्रकाशित डेली हेराल्ड समाचार पत्र में किसानों के समर्थन में लेख छपे।
  • 1925 में ब्रिटिश संसद के निचले सदन हाउस ऑफ कॉमन्स में लेबर पार्टी के सदस्य सर पैथिक लॉरेन्स ने किसानों के समर्थन में आवाज उठाई।

जाट क्षेत्रीय सभा 

  • स्थापना – 1931, ठाकुर देशराज द्वारा
  • ठाकुर देशराज द्वारा मथैना में जाट प्रजापति महायज्ञ का आयोजन।

कटराथल महिला सम्मेलन – 25 अप्रैल, 1934 

  • कारण – सिहोट ठाकुर मानसिंह द्वारा ‘सोतिया का बास’ गाँव में किसान महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार।
  • अध्यक्षता – श्रीमती किशोरी देवी (हरलालसिंह की पत्नी)
  • मुख्य वक्ता – उत्तमादेवी (भरतपुर ठाकुर देशराज की पत्नी)
  • अन्य महिलाएँ – रूपादेवी, लक्ष्मीदेवी, दुर्गावती, रुकमादेवी आदि।
  • सम्मेलन में दस हजार महिलाओं ने भाग लिया था।

♦ जयसिंहपुरा किसान हत्याकाण्ड :-

  • 21 जून, 1934 को ठाकुर ईश्वरी सिंह ने जयपुर के जयसिंहपुरा गाँव में किसानों पर गोलियाँ चलवाई।
  • ईश्वरी सिंह व साथियों पर मुकदमा चलाकर सजा दी गई।
  • जयपुर राज्य का प्रथम मुकदमा जिसमें जाट किसानों के हत्यारों को सजा हुई।

♦ कुंदन हत्याकाण्ड :- 25 अप्रैल, 1935

  • धापी देवी के कहने पर किसानों ने कर देने से मना कर दिया।
  • सीकर ठिकाने के अधिकारी वैब द्वारा गोलीबारी।
  • ब्रिटिश संसद के हाउस ऑफ कॉमन्स में भी कुन्दन हत्याकाण्ड पर चर्चा हुई।
  •  सीकर दिवस – 26 मई, 1935

♦ भरतपुर किसान आंदोलन :-

  • यहाँ 95 प्रतिशत भूमि सीधे राज्य के नियंत्रण में थी।
  • 1931 में नया भूमि बंदोबस्त लागू किया गया जिससे भू-राजस्व में वृद्धि हो गई।
  • 23 नवम्बर, 1931 को भोजी लम्बरदार के नेतृत्व में 500 किसान भरतपुर में एकत्रित हुए।
  • भोजी लम्बरदार को गिरफ्तार किया गया जिससे आंदोलन समाप्त हो गया।

Latest Post ( इसे भी पढ़े  )

राजस्थान नोट्स ( RAJASTHAN NOTES ) Click Here
विश्व का इतिहास ( WORLD HISTORY )Click Here
 भारत का इतिहास ( INDIAN HISTORY )Click Here
 सामान्य विज्ञान ( GENERAL SCIENCE ) Click Here

अंतिम शब्द

अगर आपको हमारे द्वारा उपलब्ध करवाए जा रहे राजस्थान में किसान आंदोलन | राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन के प्रश्न उत्तर राजस्थान का सामान्य परिचय नोट्स एवं इबुक अच्छे लगे तो इसे शेयर करना बिल्कुल ना भूलें  राजस्थान के अलावा अगर आप अन्य विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं तो इसके लिए इस वेबसाइट पर आपको भारत एवं विश्व का भूगोल,  भारत एवं विश्व का इतिहास,  सामान्य हिंदी ,  गणित,  अन्य सभी विषय के नोट्स भी निशुल्क मिलेंगे जिन्हें आप डाउनलोड या पढ़ सकते हैं

JOIN TELEGRAM GROUP – JOIN NOW

 उम्मीद करते हैं आज की यह राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन कक्षा 9 पोस्ट आपको जरूर अच्छी लगेगी एवं अगर आप इस वेबसाइट से संबंधित कोई भी फीडबैक देना चाहते हैं तो आपके लिए नीचे कमेंट बॉक्स खुला है अपने सुझाव हमारे साथ साझा कर सकते हैं

3 thoughts on “राजस्थान के प्रमुख किसान आंदोलन ( 2 ) | Rajasthan ke kishan Andolan”

Leave a Comment

error: Content is protected !!